लाल झंडा ईरान की मस्जिद पर, अमेरिका को दिया जंग का ऐलान |VIDEO| Bharat Gossips

लाल झंडा ईरान की मस्जिद पर, अमेरिका को दिया जंग का ऐलान ||VIDEO||

शनिवार सुबह ईरान ने जामकर मस्जिद के ऊपर लाल झंडा फहराकर युद्ध के लिए चेतावनी दे दी। मामला यह है किअमेरिकी हवाई हमले में ईरानी कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत के बाद अब ईरान ने अघोषित रूप से अमेरिका के खिलाफ युद्ध का एलान कर दिया है। झंडा फहराकर ईरान अपने नागरिकों को युद्ध की स्थिति के लिए तैयार रहने को कह रहा है, जो उन्होंने पहले कभी नहीं देखा है। हालांकि, यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि ईरान और इराक के बीच युद्ध के दौरान भी लाल झंडा नहीं फहराया गया था।

आपको बता दें कि इस तरीके के हालात में झंडा फहराना का मतलब होता है कि युद्ध के लिए तैयार रहें या युद्ध आरंभ हो चुका है। रिपोर्ट्स के मुताबिक ऐसा पहली बार नहीं है कि ईरान ने इसतरह से मस्जिद पर लाल झंडा फहराया है।कोम स्थित जानकरन मस्जिद के गुंबद पर आमतौर पर धार्मिक झंडे फहराए जाते हैं। ऐसे में धार्मिक झंडे को हटाकर लाल झंडा फहराने का मतलब युद्ध के एलान के रूप में लिया जा रहा है। क्योंकि लाल झंडे का मतलब दुख जताना नहीं होता है।

लाल झंडा, आखिर क्या है इसका महत्व

दरअसल, हुसैन साहब ने कर्बला युद्ध के दौरान मस्जिद के ऊपर लाल झंडा फहराया था। लाल झंडे को खून और शहादत का प्रतीक माना जाता है। इसलिए ईरान द्वारा लाल झंडा फहराने को मारे गए कमांडर सुलेमानी के लिए बदले के तौर पर देखा जा रहा है। जामकरन मस्जिद को ईरान का सबसे पवित्र मस्जिद माना जाता है और यहां के युवाओं पर इसका काफी प्रभाव है।

इसे भी पढ़ें : FATF ने Pakistan को भेजे 150 सवाल, आतंकवाद पर कार्रवाई का मांगा पूरा ब्यौरा

इराकी सुरक्षा बलों को सचेत किया है कि वे सैन्य ठिकानों में अमेरिकी बलों से दूर रहें।

इराक में हशद अल शाबी सैन्य नेटवर्क का एक कट्टर ईरान समर्थक धड़ा काताएब हिजबुल्ला ने इराकी सुरक्षा बलों को सचेत किया है कि वे सैन्य ठिकानों में अमेरिकी बलों से दूर रहें।समूह ने कहा कि हम देश में सुरक्षा बलों से कहते हैं कि वे रविवार को शाम पांच बजे (भारतीय समयानुसार शाम साढ़े सात बजे) से अमेरिकी ठिकानों से कम से कम 1000 मीटर दूरी पर रहें। समूह के यह बयान देने से पहले शनिवार को अमेरिकी दूतावास के निकट और अमेरिकी बलों की तैनाती वाले एक ठिकाने पर मोर्टार के गोले और रॉकेट दागे गए थे।

इसे भी पढ़ें : 18 भारतीयों समेत 23 लोगों की मौत, कारखाने में धमाका: Indian Embassy

अमेरिका क 35 ठिकानों पर है ईरान की नज़र

ईरान की एलीट रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स के कमांडर अबुहमजेह ने अपने जनरल की मौत के बदले खाड़ी क्षेत्र में अमेरिकी सेना के लिए खतरे बढ़ने की चेतावनी दी। केरमन राज्य में अबुहमजेह ने कहा कि मध्यपूर्व (पश्चिम एशिया) में ईरान ने तेल अबीव समेत 35 अमेरिकी ठिकानों को चिह्नित किया है, जिन पर उनकी नजर है।उन्होंने होरमुज की खाड़ी को पश्चिमी देशों के लिए अहम बिंदु बताते हुए इस क्षेत्र में हमलों के लिए तैयार रहने की चेतावनी दी। बता दें कि इसी खाड़ी से वैश्विक सप्लाई का एक तिहाई कच्चा तेल गुजरता है। साथ ही अमेरिकी युद्धपोत भी यहां से गुजरते हैं।

admin

Next Post

अब मिलेगा चोरी या खोया हुआ फ़ोन वापस, CEIR ने लांच किया Mobile Tracking Portal

Mon Jan 6 , 2020
भारत डिपार्टमेंट ऑफ़ टेलीकॉम एक ऐसा ऑनलाइन पोर्टाल लांच किया है. जिसपर जाकर आप आपने खोये हुए फ़ोन की सभी सर्विसेज (Mobile Tracking Portal) को बंद कर सकते है. और साथ ही आपने चोरी हुये फोने को वापस ले सकते है या उस फ़ोन की एक्टिविटीज को ट्रेस कर सकते […]
Now stolen or lost phone will be returned, CEIR launches Mobile Tracking Portal