दुनिया के महान ऑफ स्पिनरो में शुमार होने वाले टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी हरभजन सिंह ने इंटरनेशनल क्रिकेट से सन्यास के बाद बड़ा खुलासा करते हुए बताया कि क्रिकेट से उनका करियर कैसे खत्म हुआ साथ ही यह भी बताया कि उनका क्रिकेट करियर खत्म करने में आखिर किसका हाथ रहा।

गौरतलब है कि अपने इंटरनेशनल क्रिकेट केरियर से सन्यास की घोषणा के बाद टीम इंडिया के पूर्व ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने बीसीसीआई और महेंद्र सिंह धोनी पर जमकर हमला बोलते हुए अपने क्रिकेट केरियर खत्म होने की वजह करार दे दिया।

हरभजन सिंह ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड व महेंद्र सिंह धोनी पर आरोप मढ़ते हुए कहा कि एमएस धोनी जब कप्तान थे तो तब कप्तान थे कुछ बीसीसीआई अधिकारी नहीं चाहते थे कि मुझे कप्तान से कोई समर्थन प्राप्त हो, हालांकि कप्तान बीसीसीआई से ऊपर नहीं हो सकता। साथ ही हरभजन सिंह ने बताया कि धोनी के पास अन्य खिलाड़ियों की तुलना में बीसीसीआई का समर्थन ज्यादा था यदि अन्य खिलाड़ियों को भी उसी तरह का समर्थन मिलता तो वह ओर भी खेलते।

इसी के साथ पूर्व ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने बताया कि किस्मत में हमेशा मेरा साथ दिया है लेकिन बस कुछ थोड़े बहुत बाहरी कारण शायद मेरे पक्ष में न होकर मेरे खिलाफ थे। इसी के साथ हरभजन सिंह ने बताया कि जब मैं 31 साल का था तब मैंने 400 विकेट लिए थे यदि मैं चार-पांच साल और खेलता तो शायद 100-150 विकेट और ले लेता परंतु वक्त ने मेरा साथ नहीं दिया।

अंत मे पूर्व ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने अपने जीवन पर एक बायोपिक की इच्छा भी जताई और कहां की मैं चाहता हूं कि मेरे जीवन संघर्ष को प्रत्येक व्यक्ति जाने कि मैंने किन कठिनाइयों के साथ अपने कैरियर के में इस मुकाम को हासिल किया।