न ही रोहित और न ही राहुल बल्कि Indian Test Team का यह खिलाड़ी बन सकता है नया Captain, BCCI को एक पाकिस्तानी खिलाड़ी ने दिया सुझाव

T20 वर्ल्ड कप में भारत की हार के बाद लगातार Team India में नए Captain को लेकर अक्सर ही चर्चाएं चलती रहती हैं। इस बारे में कई लोगों के द्वारा अपने अपने सुझाव भी दिए जा चुके हैं, कि एक कप्तान के ऊपर बढ़ रहे लोड के चलते टी-20 और टेस्ट के लिए अलग-अलग Captain नियुक्त करने चाहिए। इस बारे में इस बात ने उस समय तूल पकड़ लिया, जब पाकिस्तानी खिलाड़ी द्वारा एक बहुत बड़ा बयान दिया गया।

जी हां इस पाकिस्तानी खिलाड़ी ने पूरी तरह से रोहित शर्मा और केएल राहुल को नजरअंदाज करते हुए एक ऐसे खिलाड़ी का नाम लिया, जो उसके हिसाब से भारतीय टीम के लिए एक सही टेस्ट कप्तान साबित होगा।

इस पाकिस्तानी क्रिकेटर ने दिया अपना सुझाव

भारतीय टीम के टेस्ट कप्तान को लेकर पाकिस्तानी क्रिकेटर ने अपने सुझाव दिए हैं, वह कोई और नहीं बल्कि दिनेश कनेरिया हैं। उनका मानना है कि टीम इंडिया के लिए हमेशा से ही टेस्ट मैच में रविचंद्रन अश्विन हीरो साबित हुए हैं।

टेस्ट क्रिकेट के दौरान भारत की कप्तानी के लिए उम्मीदवारों में अश्विन का नाम शामिल होना चाहिए। क्योंकि वह एक चतुर खिलाड़ी तो है ही, इसके साथ साथ उनके अंदर अभी बहुत सा क्रिकेट बाकी है, जो टीम इंडिया को कई बड़े-बड़े मुकाबले जिताने में सहायता कर सकते हैं।

इन कारणों से आश्विन साबित होंगे बेहतर कप्तान

बांग्लादेश के खिलाफ खेली गई टेस्ट सीरीज के दौरान भारतीय कप्तान रोहित शर्मा चोटिल थे। जिसके चलते उनके रिप्लेस पर केएल राहुल ने 2-0 से सीरीज अपने नाम की है। इसके बाद भी अगले टेस्ट कप्तान के रूप में दिनेश कनेरिया ने केएल राहुल की अपेक्षा रविचंद्रन अश्विन को ही देखने की इच्छा व्यक्त की है।

उन्होंने कहा, कि अपनी बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों में ही रविचंद्रन अश्विन विशेष काबिलियत रखते हैं। ऐसा प्रतीत होता है, कि जब यह खिलाड़ी मैदान पर होता है तो सिर्फ सोचता ही रहता है। इस बारे में उन्होंने आगे बताया, कि जब भारत पर बहुत दबाव था, उस समय रविचंद्रन अश्विन ही ऐसे खिलाड़ी थे, जो शांत स्थिति में नजर आ रहे थे।उन्होंने अपनी बुद्धिमानी और चतुराई के चलते ही भारतीय टीम के लिए एक बेहतरीन और शानदार पारी खेली।

शानदार पारी खेलते हुए जिताया मैच

भारत और बांग्लादेश के बीच खेले जा रहे दूसरे और आखिरी टेस्ट मैच में भारतीय टीम को जीतने के लिए 145 रनों का लक्ष्य दिया गया, उस समय भारत 74 रनों पर ही अपने 7 विकेट गंवा चुका था।

इसके बाद वह रविचंद्रन अश्विन ही थे, जिन्होंने श्रेयस अय्यर के साथ मिलकर भारतीय टीम की डगमगाती नैय्या को संभालते हुए भारत के लिए 42 रनों की बेहतरीन और शानदार पारी खेली।

Read Also:-IND vs SL : भारत के खिलाफ श्रीलंका ने किया T-20 और Oneday Series के लिए 16 सदस्यीय टीम का ऐलान, कप्तानी का पद संभालेगा यह दिग्गज