IND vs SL : Team India के आगे नहीं टिक सकी श्रीलंका, 2 रनों से हारने के बाद श्रीलंकाई कप्तान दासुन शनाका का गुस्सा सातवें आसमान पर

IND vs SL : भारत और श्रीलंका के बीच 3 जनवरी को हुए मुंबई के वानखेड़े मैदान पर पहले टी20 मैच के दौरान Team India की जीत हुई है। आखिरी गेंद तक गए इस मैच के दौरान श्रीलंका लक्ष्य का पीछा करने में नाकाम साबित हुई, और मात्र 2 रनों से इस मैच को हार गई। इसी के साथ भारतीय टीम सीरीज में 1-0 से आगे निकल गई है।

आखिरी ओवर में अक्षर पटेल ने बचाया मैच

भारत पहले बल्लेबाजी करते हुए 5 विकेट पर 162 रनों के स्कोर को खड़ा कर सका, लेकिन भारतीय टीम की तरफ से दीपक हुड्डा और अक्षर पटेल द्वारा मैच जिताऊ पारी खेली गई, तो वहीं भारतीय तेज गेंदबाजों ने भी बेहतरीन प्रदर्शन किया है।

भारतीय टीम में अपना पदार्पण कर रहे शिवम मावी द्वारा श्रीलंका की टीम को लगातार जोरदार झटके देते हुए 4 विकेट लिए गए। आखिरी ओवर में अक्षर पटेल की फिरकी के आगे श्रीलंकाई टीम फस गई। आखिरी ओवर में जीतने के लिए श्रीलंकाई टीम को 13 रनों की आवश्यकता थी, लेकिन कप्तान हार्दिक पांड्या द्वारा अक्षर पटेल के हाथों में गेंद थमा कर हर किसी को चौका दिया गया।

लेकिन यहां भारतीय टीम को अक्षर पटेल ने मैच जिता दिया और यह मैच भारत 2 रनों से जीतने में कामयाब रहा सभी यही सोच रहे थे, कि आखिरी ओवर तो हार्दिक पांड्या ही डालेंगे लेकिन अक्षर के हाथों में गेंद देखने के बाद सब आश्चर्यचकित थे। लेकिन आखिरी में हार्दिक पांड्या का यह फैसला कामयाब रहा।

दासुन शनाका अपनी पारी में रहे नाकाम

जब ऐसा प्रतीत होने लगा था, कि अब यह मैच भारत की झोली में ही आ गया है। उसी समय श्रीलंकाई कप्तान दासुन शनाका द्वारा 27 गेंदों पर 45 रनों की बेहतरीन और ताबड़तोड़ पारी खेली गई। लेकिन अंत में भारतीय टीम की नैया को वह पार लगाने में नाकाम रहे।

दासुन शनाका ने मैच के बाद कहा,

“हमने इस मैच को गवां दिया था, हम जिस प्रकार से खेले, वह वास्तव में निराशाजनक था। आपको वानखेड़े में सीमा पार करने के लिए बल्लेबाजों की आवश्यकता थी, लेकिन मैं पिच का अच्छी तरह से प्रयोग करता हूं और इन्हीं कारणों के चलते भारत को हम 162 रनों पर रोक सके। यह अभी पहला गेम है, और वह बल्लेबाज वास्तव में युवाओं का एक अच्छा समूह है, वह बहुत अच्छा प्रदर्शन करेंगे।”

Read Also:-Hardik Pandya इस घातक खिलाड़ी को हर मैच की प्लेइंग इलेवन में देंगे चांस