किसी ने मैच फिक्सिंग तो कोई कर बैठा रेप, यह पांच दिग्गज क्रिकेटर खा चुके हैं जेल की हवा, लिस्ट में भारतीय‌ Cricketers भी शामिल

अपने शानदार प्रदर्शन और व्यक्तिगत जीवन के चलते कई Cricketers सुर्खियों में छाए रहते हैं। अक्सर देखा जाता है कि कोई खिलाड़ी अपने ताबड़तोड़ प्रदर्शन के कारण सुर्खियों में बना रहता है, तो कोई किसी गंभीर अपराध में कानून को तोड़ने के कारण। क्रिकेट जगत में ऐसे कई खिलाड़ी हुए जो खेल भावनाओं की धज्जियां उड़ा बैठे, जिसके कारण उन्हें जेल की हवा भी खानी पड़ी।

आज इस आर्टिकल के जरिए ऐसे पांच खिलाड़ियों के बारे में हम आपको बताएंगे, जो हवालात जाने के साथ-साथ विश्व क्रिकेट में बदनाम खिलाड़ियों की लिस्ट में भी शामिल हो गए। इन खिलाड़ियों में दो भारतीय खिलाड़ी भी शामिल है। आइए इस आर्टिकल के जरिए जानते हैं ऐसे खिलाड़ियों के बारे में, जो अपने जीवन काल में जेल की हवा भी खा चुके हैं।

बेन स्टोक्स

24 सितंबर साल 2017 को ब्रिस्टल में वेस्टइंडीज के खिलाफ तीसरे एकदिवसीय मैच के बाद बेन स्टोक्स को एक नाइट क्लब के बाहर किसी व्यक्ति को मुक्का मारने के अपराध में अपने साथी एलेक्स हेल्स के साथ गिरफ्तार किया गया था। इस घटना का पूरा प्रकरण सीसीटीवी कैमरे में कैद हो चुका था जिसके चलते यह दोनों खिलाड़ी इस सीरीज के चौथे मैच से चूक गए इसके साथ 7 स्टोक्स के हाथ में इस विवाद के बाद चोट भी आ गई थी जिसके चलते स्टोक्स गेम से बाहर कर दिए गए थे।

एस श्रीसंत

भारतीय क्रिकेट टीम के श्रीसंत को राजस्थान रॉयल्स के दो खिलाड़ियों अजीत चंदेला और अंकित चौहान के साथ 16 मई 2013 को IPL 6 के दौरान मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। श्रीसंत द्वारा अपने चचेरे भाई और गुजरात अंडर 22 खिलाड़ी रह चुके जीतू जनार्दन के साथ स्पॉट फिक्सिंग में अहम भूमिका निभाई गई थी। इसके साथ साथ स्पॉट फिक्सिंग को उन्होंने 17 मई 2013 को स्वीकार भी किया था।

जब पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया। उस समय वह भयंकर नशे में धुत थे। और नशे की लत को ही अपनी गिरफ्तारी का कारण भी समझ रहे थे। लेकिन बीसीसीआई द्वारा स्पॉट फिक्सिंग के आरोप के चलते श्रीसंत के ऊपर आजीवन बेन लगा दिया गया था। जोकि बाद में 7 वर्ष कर दिया गया। उनके ऊपर लगाया गया 7 सालों का यह बैन अब पूरी तरह से समाप्त हो चुका है। और उन्होंने घरेलू क्रिकेट में भी अपनी वापसी कर ली है।

रुबेल हुसैन

बांग्लादेशी अभिनेत्री नाज़नीन अख्तर हैप्पी ने हुसैन पर बलात्कार जैसा गंभीर आरोप लगाया था। जिसके चलते बांग्लादेश पुलिस ने उन्हे गिरफ्तार कर लिया था। 3 दिन हिरासत में रखने के बाद साल 2015 में क्रिकेट विश्व कप में भाग लेने के लिए उन्हें अदालत से जमानत मिल गई थी।

रुबेल हुसैन ने इंग्लैंड के खिलाफ बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए बांग्लादेश को जीत दिलाई थी। जिसके चलते नाज़नीन ने रूबेल पर लगाए हुए सभी इल्जामों को वापस ले लिया था। इसके साथ साथ वकील ने भी इस मामले को यह कहकर खत्म कर दिया, कि बांग्लादेश को कामयाब होते देखने के बाद अब वह रूबेल के खिलाफ केस लड़ना पसंद नहीं करेंगे।

अप्रैल 2018 में रूबेल सीजन से पहले बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (बीसीबी) द्वारा केंद्रीय अनुबंध से सम्मानित होने वाले दसवें क्रिकेटरों में सम्मिलित थे।

नवजोत सिंह सिद्धू

पिछले कुछ समय से पूर्व खिलाड़ी नवजोत सिंह सिद्धू भी काफी विवादों से घिरे हुए नजर आ रहे हैं। जब से राजनीति में उन्होंने अपने कदमों को रखा, तब से वह विवादों से ही घिरे हुए दिखाई दे रहे हैं। लेकिन अपने आक्रमक अंदाज के चलते उन्हें एक बार हवालात भी जाना पड़ गया था।

नवजीत सिंह सिद्धू को 1988 में एक बुजुर्ग से मारपीट करने के आरोप में 3 साल की जेल की सजा हुई थी। खबरों के अनुसार बुजुर्ग से हाथापाई के दौरान उस बुजुर्ग की मौत भी हो गई थी। कुछ समय जेल में बिताने के बाद कोर्ट में अपील करने के बाद इस खिलाड़ी को रिहाई भी मिल गई थी।

वसीम अकरम

पाकिस्तान के पूर्व खिलाड़ी वसीम अकरम 1993 में वेस्टइंडीज के दौरे पर टीम के साथी खिलाड़ी वकार यूनुस, आकिब जावेद और मुस्ताक अहमद के साथ बीच पर घूमने गए थे। इसी बीच वह अवैध रूप से ड्रग्स का सेवन करते हुए पुलिस द्वारा रंगे हाथों पकड़े गए, जिसके बाद उन्हें हवालात जाना पड़ा। हालांकि बेल के बाद उनकी जमानत भी हो गई थी।

Read Also:-Sunil Gavaskar ने दिया बड़ा बयान, रोहित और विराट के T20 करियर पर मरणाया संकट