IND vs SA 2nd Test: वर्ष 2018 में भारतीय क्रिकेट टीम ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए दक्षिण अफ्रीका को 63 रनों से मुकाबला हरा दिया था, यह मुकाबला भी जोहान्सबर्ग के द वांडरर्स स्टेडियम पर खेला गया था और अब इस सीरीज़ के खेल में तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद मैच की जो मौजूदा स्थिति है वो 2018 जैसी ही है। वर्ष 2018 के उस मुकाबले में भी दक्षिण अफ्रीका के सामने 241 रनों का लक्ष्य था और एक समय अफ्रीका का स्कोर जब 124 पर 2 था तो वह आसानी से लक्ष्य की ओर बढ़ रही थी, लेकिन इंडिया के गेंदबाजों ने शानदार वापसी करते हुए दक्षिण अफ्रीका की पारी को मात्र 177 रन पर ही समेट दिया था ओर अब के मैच को देखकर यही प्रतीत होता है कि जब टीम इंडिया जोहान्सबर्ग के द वांडरर्स स्टेडियम में अफ्रीका के सामने उतरेगी तो उसके जेहन में वही 2018 के मैच होंगे जिसमे टीम इंडिया ने चमत्कारिक रूप से जीत दर्ज की थी।

फैंस टीम से रखेंगे चमत्कार की उम्मीद

अब जबकि खेली जा रही टेस्ट सीरीज के दूसरे मैच के चौथे दिन का खेल शुरू होगा तो भारतीय टीम के फैंस अपनी टीम से भी चमत्कार की उम्मीद रखेंगे। आपको बता द्व की तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक अफ्रीका ने 2 विकेट के नुकसान पर 118 रन बनाए हैं जबकि उसे जीत के लिए 122 रन और चाहिए हालांकि कप्तान डीन एल्गर नाबाद है।

मैदान पर रन चेस करना रहा मुश्किल

हैरानी वाली बात यह है की जिस मैदान पर यह सीरीज़ खेली जा रही है उस वांडरर्स मैदान पर रन चेस करना हमेशा से मुश्किल रहा है यदि इंडियन क्रिकेट टीम दक्षिण अफ्रीका को 240 रनों से पहले समेट देती है तो शायद हैरानी नहीं होगी। इसी के साथ बता दे कि इस वांडरर्स मैदान पर जो सबसे सफल रन चेस रहा है वह 310 रनों का है जिसे ऑस्ट्रेलिया ने कर दिखाया था, जबकि अफ्रीका सिर्फ दो बार ही अपनी घरेलू सरजमीं पर 237 रनों से ज्यादा का लक्ष्य हासिल कर पाई है।

वांडरर्स मैदान पर सबसे सफल रन चेज

– नवंबर 2011 में ऑस्ट्रेलिया ने 8 विकेट खोकर 310 रनों का लक्ष्य हासिल किया था।

– अप्रैल 2006 में ऑस्ट्रेलिया ने 8 विकेट के नुकसान पर 294 रनों का टारगेट हासिल किया था।

– मई 2006 में दक्षिण अफ्रीका ने न्यूजीलैंड के खिलाफ 220 रनों का लक्ष्य हासिल किया था।

– नवंबर 1998 में दक्षिण अफ्रीका ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ 164 रनों का टारगेट चेज किया था।

हालांकि क्रिकेट ग्राउंड वांडरर्स व टीम इंडिया के रिकॉर्ड को देखा जाए तो अफ्रीका के लिए जीत नामुमकिन नहीं है। भारतीय टीम वांडरर्स में अब तक एक भी मैच नहीं हारी है और वह इस बार भी ये मुकाबला जीतकर अपने रिकॉर्ड को न सिर्फ कायम रखेगी बल्कि पहली बार दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट सीरीज भी जीत लेगी।