वन-डे इतिहास के पांच सबसे बदनाम बल्लेबाज, धीमे ऐसे कि कछुआ भी शर्मा जाए

सुनील गावस्कर निर्विवाद रूप से भारतीय क्रिकेट इतिहास के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हैं। गावस्कर टेस्ट इतिहास में दस हजार रन बनाने वाले विश्व के पहले बल्लेबाज थे, लेकिन उनके बेहतरीन करियर पर एक बदनुमा दाग भी है।

वर्ल्ड कप 1975 के एक मैच में उन्होंने 174 गेंद खेली और 36 रन नाबाद बनाए थे, लेकिन अगर आप सोचते हैं कि इससे बुरा रिकॉर्ड किसी और का नहीं, तो आज हम आपको बता रहे हैं।

ऐसे 5 वनडे बल्लेबाजों के बारे में जिन्होंने एक वनडे मैच में सबसे बुरी पारी खेली और वह मैच सबसे कड़वी याद के रुप में दर्ज हो गया।

आमिर सोहेल

23 मार्च 1993 में किंग्सटन में वेस्टइंडीज के खिलाफ एक मैच में सोहेल ने 167 गेंद खेली और 87 रन बनाए। इसमें 6 चौके शामिल हैं।

मोहसिन खान

22 जून 1983 में वेस्टइंडीज के खिलाफ इस क्रिकेटर ने 176 गेंदों में मात्र 70 रन बनाए। इनके बल्ले से सिर्फ एक चौका निकला।

जावेद मियांदाद

1 जनवरी 1989 में वेस्टइंडीज टीम के खिलाफ मियांदाद ने 167 गेंदों में नाबाद 67 रन बनाए थे। इस मैच में वह सिर्फ एक चौका लगा सके थे।

सुनील गावस्कर

वर्ल्ड कप 7 जून 1975 में ग्रुप ए के पहले मैच में इंग्लैंड के खिलाफ गावस्कर की वह पारी हमेशा विवादों में रही। उन्होंने सिर्फ एक चौका लगाकर 174 गेंदों में 36 रन नाबाद बनाए। भारत वह मैच शर्मनाक ढंग से 202 रन से हार गया था।

आरएस मोर्टन

24 सितंबर 2006 में डीएलएफ कप के फाइनल मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खाता भी नहीं खोल पाए थे। हालांकि मैदान में वह 56 मिनट तक रहे और 31 गेंद भी खेलीं।

Leave a comment

Your email address will not be published.