अश्लील वीडियो का जाल वायरल करने की धमकी देकर तीन करोड़ रुपये की मांग

मध्यप्रदेश का मामला इसलिए भी गरम है, क्योंकि इसमें घटना के तार प्रदेश की राजधानी भोपाल और आर्थिक राजधानी इंदौर से जुड़े हुए हैं। हालांकि मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश की घटना में एक समानता भी है। दोनों में ही ब्लैकमेलिंग और रकम उगाही कॉमन फैक्टर है।

भोपाल-इंदौर के मामले को तफ्सील से समझते हैं। यहां नेताओं और अफसरों को अश्लील वीडियो के जरिए फंसाकर ब्लैकमेल करने के मामले का खुलासा हुआ है। इस काम को एक गिरोह बनाकर अंजाम दिया जा रहा था।

पुलिस ने 19 सितंबर को गिरोह की पांच महिलाओं व एक ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है। घटना का खुलासा तब हुआ जब ये महिलाएं इंदौर नगर निगम के इंजीनियर हरभजन सिंह को एक छात्रा के साथ बनाए गए वीडियो को वायरल करने की धमकी देकर तीन करोड़ रुपये की मांग कर रही थीं।

ये है ब्लैकमेलर गिरोह

  • आरती दयाल
  • श्वेता विजय जैन
  • श्वेता स्वप्निल जैन
  • बरखा भटनागर सोनी
  • मोनिका यादव

दोस्ती से शुरू हुआ खेल

इंदौर नगर निगम के इंजीनियर को वीडियो वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेल करना शुरू किया गया। उससे पैसों की मांग की गई। तीन बार रकम चुकाई भी गई। लेकिन गिरोह की मांग खत्म नहीं होती देख इंजीनियर हरभजन सिंह ने पुलिस का सहारा लिया और यहां से इस खेल का खुलासा हुआ।

पुलिस ने आरोपियों को पकड़ने के लिए जाल बिछाया तो पता चला कि इसके तार भोपाल में भी थे। भोपाल में आरती नाम की महिला को गिरफ्तार किया गया तो पता चला कि इस खेल में भोपाल की तीन और महिलाएं भी शामिल हैं।

एक-एक करके कड़ी जुड़ती गई

पुलिस ने भोपाल से 39 वर्षीय श्वेता जैन, उसके पति स्वप्निल जैन और बरखा सोनी को गिरफ्तार किया। सभी ने कबूल किया कि वे इंजीनियर को वीडियो के नाम पर धमकाकर ब्लैकमेल कर रहे थे।

पुलिस को आरोपियों के पास से एक दर्जन से ज्यादा वीडियो, मोबाइल फोन, आठ से ज्यादा सिम कार्ड और 14 लाख रुपये की नकदी भी बरामद हुई है। बताया जा रहा है कि ज्यादातर वीडियो नेताओं और अफसरों के हैं, जिन्हें ये महिलाएं प्यार के जाल में फंसाकर ब्लैकमेल कर रहीं थीं।

Leave a comment

Your email address will not be published.