Raj Thackeray in support of Citizenship Amendment Act, says throw out intruders
Raj Thackeray in support of Citizenship Amendment Act, says throw out intruders

बाला साहेब ठाकरे की जयंती पर पार्टी के झंडे के रंग को भगवा में बदलने वाले राज ठाकरे ने मुंबई में कहा कि भगवा झंडा साल 2006 से मेरे दिल में था. मैं मराठी हूं और एक हिंदू हूं. उन्होंने यह भी कहा कि मुसलमान भी अपने हैं. उन्होंने इस दौरान नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) का समर्थन किया. मनसे प्रमुख ने कहा कि मैं हमेशा कहता रहा हूं कि पाकिस्तान और बांग्लादेश के घुसपैठियों को देश से बाहर फेंक देना चाहिए.

राज ठाकरे कई बार पीएम मोदी की आलोचना भी कर चुके हैं. उन्होंने कहा कि मुझे जब लगता है कि जो उन्होंने कहा वो सही नहीं है, तो मैं उनकी आलोचना करता हूं. लेकिन जब उन्होंने अच्छे काम किए तो मैंने तारीफ भी की. वहीं महाराष्ट्र सरकार पर उन्होंने कहा कि मैं रंग बदलने वाली सरकारों के साथ नहीं जाता. राज ठाकरे का निशाना शिवसेना की तरफ था जिसने कुछ माह पहले कांग्रेस और एनसीपी के साथ सरकार बनाई है.

Raj Thackeray in support of Citizenship Amendment Act, says throw out intruders

ये भी पढ़ें: AIMIM के नेता ओवैसी ने पाक पीएम को सुनाई खरी-खोटी, कहा-हम गर्व से भारतीय मुसलमान

राज ठाकरे ने यह भी कहा कि जिन दलों ने सीएए के खिलाफ मोर्चा खोला है, उनकी पार्टी मनसे उनके खिलाफ मोर्चा खोलेगी. सीएए के बारे में उन्होंने कहा कि जो लोग बाहर से अवैध ढंग से आए हैं, उन्हें क्यों शरण दी जानी चाहिए?

राज ठाकरे ने कहा कि अगले कुछ दिनों में वे महाराष्ट्र के गृह मंत्री या मुख्यमंत्री से मिलेंगे और उनके समक्ष कुछ मुद्दे उठाएंगे. मुस्लिम धर्मगुरुओं के बारे में उन्होंने कहा कि वे विदेश जाते हैं लेकिन कोई नहीं जानता कि किस काम से जाते हैं. जबकि पुलिस भी वहां तक नहीं जा सकती.

ये भी पढ़ें: जानिए क्या है धारा 144 और उल्लंघन करने पर क्या होता है

घुसपैठियों पर निशाना साधते हुए राज ठाकरे ने कहा कि पाकिस्तान और बांग्लदेशी घुसपैठियों के खिलाफ 9 फरवरी को एक बड़ी रैली निकाली जाएगी. बता दें, राजनीति में 13 सालों के अतीत के बाद मनसे ने गुरुवार को मुंबई में नए झंडे, चिन्ह और नई विचारधारा के साथ नई शुरुआत की.

मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने पार्टी के नए झंडे का अनावरण किया, जो गहरे भगवा रंग का है. इसके साथ छत्रपति शिवाजी महाराज के शासन की मुद्रा को चिन्ह के तौर पर जारी किया गया. पार्टी का भव्य सम्मेलन गोरेगांव में एनएसई ग्राउंड में अयोजित किया गया.