Lockdown: कोरोनावायरस की कड़ी टूटने का नाम नहीं ले रही है. ओमिक्रॉन (OMICRON) के लगातार बढ़ते केसों के बाद एक बार फिर लोगों के मन में डर का माहौल है और कई लोगों का मानना है कि एक बार फिर देश में लॉकडाउन (Lockdown) लगाया जा सकता है. लॉकडाउन के बारे में डॉक्टर्स का क्या कहना है और उन्हें लॉकडाउन (Lockdown) लगने की कितनी संभावनाएं लगती हैं. तो आज आपके सभी सवालों का जवाब देते हैं कि आखिर ये नया वेरिएंट कितना खतरनाक है और इससे भविष्य में स्थितियां कितनी गंभीर हो सकती हैं.

अब तक सरकार की ओर से ऐसी कोई बात नहीं कही गई है और ना ही आधिकारिक तौर पर इसका कोई अंदेशा लगाया गया है. हालांकि, लोगों का सवाल अभी है कि लॉकडाउन (Lockdown) लगेगा या नहीं और फिर कब से लग सकता है.

कोविड प्रोटोकॉल्स के अलावा वैक्सीनेशन भी बहुत जरूरी है. लेकिन देश में अभी भी 11 करोड़ लोग ऐसे हैं, जिन्होंने कोरोना की एक भी डोज नहीं ली है.. ओमिक्रोन (OMICRON) का सबसे बड़ा खतरा इन्हीं लोगों पर है.. हालांकि 138 करोड़ डोज लगी हैं, लेकिन इन लोगों को 22 करोड़ डोज लगनी बाकी हैं. ऐसा भी नहीं है कि देश में वैक्सीन की कमी है. देश में 50 करोड़ डोज बची हुई हैं. तो फिर सवाल ये है कि ये लोग वैक्सीन क्यों नहीं ले रहे हैं. अगर आपने भी अभी तक वैक्सीन नहीं ली है तुरंत वैक्सीन ले लीजिए.

अगर तीसरी लहर की बात करें तो डॉक्टर का कहना है, जैसे जैसे वायरस पुराना होता जाता है, नए वेरिएंट्स आ सकते हैं. अब यूरोप में इतने मामले सामने आ रहे हैं तो इसकी पूरी संभावना है कि ये भारत में भी होगा. नए अनुमान के मुताबिक ये जनवरी या फरवरी में आ सकती है. ये अनुमान कितने सही होंगे ये भविष्य में ही पता चलेगा.