Green signal to Chandrayaan-3, many revelations made on 2020 targets
Green signal to Chandrayaan-3, many revelations made on 2020 targets

इसरो (ISRO) के अध्यक्ष के सिवन ने बुधवार को 2019 की उपलब्धियां और 2020 के टारगेट के बारे में बताया। सिवन ने बताया कि सरकार ने चंद्रयान-3 (Chandrayaan-3) को मंजूरी दे दी है और इस परियोजना पर कार्य चल रहा है। चंद्रयान-3 (Chandrayaan-3) मिशन में ऑर्बिटर नहीं होगा। इसमें केवल लैंडर और रोवर होंगे।

Green signal to Chandrayaan-3, many revelations made on 2020 targets

के सिवन ने कहा, ‘दूसरे स्पेस पोर्ट के लिए जमीन अधिग्रहण पर कार्य चल रहा है। दूसरा पोर्ट तमिलनाडु के थुथुकुडी में होगा।’ चंद्रयान-2 को लेकर उन्होंने कहा, ‘बेशक हम सफलतापूर्वक चंद्रमा की सतह पर लैंड नहीं कर पाए लेकिन हमने चंद्रयान -2 पर अच्छी प्रगति की है। ऑर्बिटर अब भी काम कर रहा है। यह अगले सात सालों तक काम करता रहेगा और साइंस डेटा देता रहेगा।’

इसे भी पढ़ें : ‘डियर विक्रम…’: नागपुर पुलिस का यह ट्वीट ट्विटर पर दिल जीत रहा है

इसरो अध्यक्ष ने भारत के महत्वकांक्षी गगनयान मिशन को लेकर बताया कि इसकी डिजाइनिंग का काम पूरा हो गया है। साथ ही यान में जाने के लिए चार यात्रियों का चुनाव कर लिया गया है। 2022 में गगनयान मिशन के जरिए भारत पहली बार अतंरिक्ष में मानव को भेजेगा। इससे पहले भारत के राकेश शर्मा अतंरिक्ष में रूस के अंतरिक्षयान से गए थे।

इसे भी पढ़ें : सोमवार को सोना (Gold) 39,800 के पार हुआ बंद, 2020 में 45 हजार के पार जा सकता है