Air Pollution: Delhi's air deteriorated due to smoke, situation may worsen further!
Air Pollution: Delhi's air deteriorated due to smoke, situation may worsen further!

दिल्ली में आज भी वायु की गुणवत्ता खराब (Air Pollution) रह सकती है. यह लगातार चौथा दिन होगा जब हवा में प्रदूषण का स्तर ‘खराब’ बना रहेगा. मिल रही आज वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 256 तक जा सकता है.

शनिवार को यह 222 तक दर्ज किया गया था. हालांकि विशेषज्ञों का कहना है कि स्थिति पिछले कुछ सालों के मुकाबले इन दिनों बेहतर है. केंद्र द्वारा संचालित वायु गुणवत्ता एवं मौसम पूर्वानुमान और अनुसंधान प्रणाली के मुताबिक, समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक 221 दर्ज किया गया है, जो खराब श्रेणी में आता है. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने भी शाम चार बजे एक्यूआई 222 दर्ज किया है.

अनुमान जताया गया है कि रविवार को दिल्ली की हवा और खराब हो सकती है तथा एक्यूआई के 256 अंक तक पहुंचने के आसार हैं. सफर ने कहा कि दिल्ली का प्रदूषण (Air Pollution) स्तर अक्टूबर के तीसरे हफ्ते तक ‘बहुत खराब’ श्रेणी में चला जाएगा.

इसे भी पढ़ें : RRB NTPC एडमिट कार्ड 2019: इस दिन होगा जारी, देखें परीक्षा की तिथियाँ

हवा में मौजूद प्रदूषण पर सरकार की नजर: प्रकाश जावेड़कर

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दिल्ली की वायु गुणवत्ता अगले दो-तीन हफ्तों में ज़बर्दस्त रूप से बिगड़ने की आशंका नहीं है, क्योंकि हवा की गति इतनी तेज नहीं है कि हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने के धुएं को दिल्ली ले आए. सफर ने कहा कि बीते कुछ वर्षों में इस समय की तुलना में इस साल एक्यूआई काफी बेहतर है. इसका कारण आंशिक रूप से दिल्ली के आसपास के क्षेत्रों में अपेक्षाकृत गर्म तापमान के साथ पर्याप्त नमी है. 

8p5cqbh8

इसे भी पढ़ें : फ्री में बंटे गोल गप्पे तो बेटे को भी साथ ले आईं अर्चना पूरन सिंह, कपिल शर्मा ने खोला राज- The Kapil Sharma Show वायरल Video

‘दिल्ली की वायु गुणवत्ता दो अक्टूबर तक संतोषजनक और नौ अक्टूबर तक मध्यम श्रेणी में थी. यह गुरुवार को पहली बार खराब श्रेणी में चली गई थी.’ उन्होंने बताया, ‘पिछले साल, सात अक्टूबर को शहर की गुणवत्ता बहुत खराब हो गई थी.’

सफर ने कहा कि हरियाणा और पंजाब में बायोमास जलाने से दिल्ली का एक्यूआई प्रभावित हो सकता है. पंद्रह अक्टूबर से दिल्ली और आसपास के इलाकों में वायु प्रदूषण पर लगाम कसने के लिए कड़े उपाय अमल में आएंगे.  यह ‘ग्रेडेड रिस्पान्स एक्शन प्लान’ का हिस्सा है जो 2017 में पहली बार दिल्ली-एनसीआर में लागू किया गया था. 

Leave a comment

Your email address will not be published.