Pushpa: साल 2020 में कोरोना महामारी के आने के बाद से सब कुछ अस्त-व्यस्त हो गया है बीते 2 सालों से सिनेमाघरों में भी ताला डाला हुआ था उस समय हम सब ओटीटी प्लेटफॉर्म के जरिए मनोरंजन कर रहे थे हम सब घरों में कैद थे और सिनेमाघरों में भी ताला लगा था साल 2021 के जाते-जाते सिनेमाघर फिर से पटरी पर आने लगे लगे और रिलीज हुई कई धमाकेदार फिल्में जिनमें से एक थी साउथ फिल्म पुष्पा द राइज (Pushpa) फिल्म ने इतनी ताबड़तोड़ कमाई की लगभग 300 करोड़ से ज्यादा का बिजनेस कर चुकी फिल्म पुष्पा (Pushpa) हर किसी की फेवरेट फिल्म बन चुकी है.

फिल्म में साउथ की क्यूट एक्ट्रेस रश्मिका मंदाना ने अपनी एक्टिंग से सबका दिल जीत लिया तो वही साउथ इंडस्ट्री की धड़कन अल्लू अर्जुन सब के सुपरस्टार बन गए फिल्म में हर किसी के अभिनय की जमकर तारीफ हो रही है फिल्म की स्टोरी इतनी ज्यादा टच करने वाली है कि हर सीन देखकर दर्शक नजर नहीं हटा पाए लेकिन क्या आप जानते हैं कि फिल्म में महिलाओं पर किए जाने वाले अत्याचारों को भी बारीकी से दिखाया गया है, आइए देखें कैसे..

इस फिल्म में पुष्पा की मां एक बिन ब्याही मां होती है जिसका पति उसे अपना आता नहीं है ना ही उसके ससुराल वाले यह मानने तैयार होते हैं कि वह उनके घर की बहू है फिल्म में सिंगल मदर की परेशानियों और मुश्किलों को साफ तौर से दिखाया गया है.

यह सच्चाई है कि महिलाएं भी अपराध कर सकती हैं, फिल्म में सीनू की पत्नी अपने पति के हर गुनाहों में उसका साथ देती है और अंत में खुद भी एक गुनाहगार बन जाती है यहां भी हमारी समाज की सच्चाई है कि महिलाएं भी अपराधी होती हैं.

इस फिल्म में साफ तौर पर दिखाया गया है कि महिलाओं को किस तरह से उपभोग की वस्तु समझा जाता है आज भी छोटे-छोटे गांव में महिलाओं की कोई इज्जत नहीं होती है और उन्हें सिर्फ इस्तेमाल करने के लिए बुलाकर अलग कर दिया जाता है.

साउथ के सुपरस्टार अल्लू अर्जुन और रश्मिका मंदाना की स्टोरी दिखाई गई है यह लव स्टोरी इतनी खूबसूरत होती है लेकिन इसमें समाज की नजर लग जाती है, फिल्म में पुष्पराज के खानदान का पता नहीं होता है उनका पिता उन्हें अपनाने से मना कर देता है और श्रीवल्ली घर परिवार की लड़की होती है जिससे दोनों की शादी में बाधाएं आती हैं और समाज ऐसे घर में शादी करने पर उंगलियां उठाते हैं