Untitled 1 Recovered Recovered 22 Pankaj Tripathi Birthday: 7 दिन जेल की हवा खा चुके हैं एक्टर, कभी पढ़ते थे पेड़ की लाइट के नीचे

Pankaj Tripathi: बॉलीवुड के सेल्फ मेड स्टार और सबके चहेते मिर्ज़ापुर के कालीन भइया पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi) अपना बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं। पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi) वेब सीरीज मिर्जापुर के कालीन भैया के नाम से फेमस हुए बॉलीवुड में एक से बढ़कर एक फिल्में देने वाले कालीन भैया 46 साल के हो चुके हैं. अपनी एक्टिंग से सब को दीवाना बनाने वाले मशहूर एक्टर पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi) का जन्म बिहार में हुआ बिहार के एक छोटे से गांव में अपनी शुरुआती दिनों की मेहनत करके आज पूरे बॉलीवुड में अपना जलवा बिखेरने वाले पंकज त्रिपाठी की फैन फॉलोइंग काफी तगड़ी है. पंकज त्रिपाठी जब गांव में रहते थे वह नाटकों में लड़की बनकर एक्टिंग करते थे तब लोगों ने उन्हें एक्टर बनने की सलाह दी लेकिन उनके पिताजी चाहते थे कि वे डॉक्टर बने पिता ने उन्हें पढ़ाई करने के लिए पटना भेजा कॉलेज की पढ़ाई के दौरान पंकज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ गए, इस दौरान स्टेट गर्वमेंट के खिलाफ आवाज उठाने पर उन्हें 7 दिन जेल में बिताने पड़े.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Pankaj Tripathi (@pankajtripathi)

मनोज बाजपेई को देख कर पंकज त्रिपाठी एक्टर बनने का सपना देख चुके थे, पंकज त्रिपाठी का जन्म 5 सितंबर 1976 को एक हिंदू ब्राह्मण फैमिली में हुआ, पेड़ के नीचे बैठकर अपनी स्कूली पढाई पूरी करने वाले पंकज त्रिपाठी ने कभी नहीं सोचा था की वो एक दिन इतने बड़े एक्टर बन जाएंगे। 520 फिल्में, 65 टीवी शो, 7 वेब सीरीज, एक नेशनल अवॉर्ड लेकर दिलों में राज़ करने वाले एक्टर जब मुंबई आये तो उन्होंने एक्टिंग क्लास शुरू की और अपने खर्चों के लिए एक होटल में कुक बन गए। 2 साल वहां बिताने के बाद वो दिल्ली गए फिर मुंबई आ गए.

दिल्ली से एक्टिंग कोर्स करके मुंबई पहुंचे तब उन्हें लम्बे समय तक काम नहीं मिला, उन्हें हिंदी और इंग्लिश सीखने के लिए भी खासा स्ट्रगल करना पड़ा, बाद में उन्हें छोटे मोटे रोल मिलना शुरू हुए, कई फिल्में करने के बाद भी पंकज त्रिपाठी को फिल्म गैंग्स ऑफ वासेपुर से पहचान मिली, इसके बाद ओटीटी पर रिलीज हुई मिर्जापुर ने उनके कालीन भईया के किरदार को यादगार बना दिया, आज करोडो दिलों में राज़ करने वाले एक्टर का जन्मदिन है.