What will apply is lockdown 4.0, discussion on waiver with conditions held in the meeting of Chief Ministers of all states.

कोरोना वायरस महासंकट के बीच देश में लागू लॉकडाउन को लेकर सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने गंभीर चर्चा की। लोकडाउन 3.0 की अवधि 17 मई को पूरी हो रही है, ऐसे में हर किसी के मन में सवाल कि क्या इसे बढ़ाया जा सकता है. मुख्यमंत्रियों और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच हुई बैठक में से जो संकेत आ रहे हैं वो देश में lockdown 4.0 की और ईशारा कर रहे हैं. हालांकि, इसमे राज्यों को काफी छूट मिल सकती है.

सोमवार को प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्रियों के बीच 6 घंटे से लंबी बैठक चली ,इस दौरान मुख्यमंत्रियों ने अपनी परेशानियों, लॉकडाउन को लेकर अपनी राय को पीएम के सामने रखा। इनमें से महाराष्ट्र, पंजाब, बंगाल और तेलंगाना ऐसे राज्य थे, जिन्होंने लॉकडाउन को बढ़ाने की मांग की. कई अन्य राज्यों ने भी सिर्फ रेड ज़ोन और कंटेनमेंट ज़ोन में ही सख्ती बरतने के लिए अपनी स्वीकृति दी।

हालांकि, यदि लॉकडाउन 4.0 आता है तो इस बार आर्थिक गतिविधियों को छूट मिल सकती है जिसमें कई नियम शामिल हो सकते हैं। इसके अलावा इनको तय करने का हक राज्यों को मिल सकता है।
इस बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक नया नारा दिया, जन से जग तक

ये भी पढ़ें: Corona virus: असम के मुख्यमंत्री सोनोवाल ने राज्य की अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए माँगा समर्थन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यों से मांगे सुझाव

इस बीच प्रधानमंत्री की ओर से राज्यों से प्लान मांगा गया है, जिसमें लॉकडाउन को खोलने, आर्थिक गतिविधियों को चालू रखने और ग्रीन-रेड-ऑरेंज जोन को लेकर सुझाव मांगे गए हैं। कई राज्यों ने इस बात की मांग की थी कि ज़ोन तय करने की शक्ति राज्य सरकार के हाथ में दे दी जानी चाहिये।

कई मुख्यमंत्री इस दौरान अलग-अलग राय रखते हुए नज़र आए, जैसे उद्धव ठाकरे ने कहा कि बिना लॉकडाउन के आगे बढ़ना काफी मुश्किल हो सकता है, वहीं ममता बनर्जी ने केंद्र पर राजनीति करने का आरोप लगाया और कहा कि हर किसी का साथ में होना जरूरी है। तेलंगाना, तमिलनाडु और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों ने ट्रेन सेवा या विमान सेवा की शुरुआत करने को मना किया।

ये भी पढ़ें: Railway services started: रेलवे ने यात्रियों के लिए जारी किये दिशानिर्देश, पुनः शुरू रेल सेवायें

गोरतलब है कि कोरोना वायरस की वजह से देश में 24 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा की गई थी, जो 25 मार्च से अभी तक लागू है। लॉकडाउन को तीन बार बढ़ाया जा चुका है, तीसरे lockdown की अवधि 17 मई को समाप्त हो रही है, इस बीच देश में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 70 हजार के करीब पहुंच गये हैं, जबकि कुल मौतों का आंकड़ा 2200 के पार पहुंच गया है।