चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम से संपर्क बहाल होने की संभावना समय के साथ कम होती जा रही है | Bharat Gossips

चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम से संपर्क बहाल होने की संभावना समय के साथ कम होती जा रही है

अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) चंद्रयान-2 के ‘लैंडर’ विक्रम से संपर्क बहाल करने की कोशिश जारी रखे हुए है. इसरो (ISRO) प्रमुख के. सिवन ने शनिवार को कहा था कि अंतरिक्ष एजेंसी 14 दिनों तक लैंडर से संपर्क बहाल करने की कोशिश करेगी। चंद्रयान-2 में लगे कैमरों से चंद्रमा की सतह पर लैंडर विक्रम का रविवार को पता चलने के बाद उन्होंने दोहराया कि ये कोशिशें जारी रहेंगी। अभियान से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘जैसे-जैसे समय बीतता जाएगा यह मुश्किल होगा।’

एक अधिकारी ने कहा कि हालांकि, सही अनुकूलन के साथ यह अब भी ऊर्जा पैदा कर सकता है और सौर पैनल के जरिए बैटरियों को रिचार्ज कर सकता है। उन्होंने कहा, ‘लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता जाएगा संभावना कम होती चली जाएगी।’

हार्ड लैंडिंग ने संपर्क साधना मुश्किल किया

इसरो (ISRO) के एक अन्य शीर्ष अधिकारी ने कहा चंद्रमा की सतह पर विक्रम की ‘हार्ड लैंडिंग’ ने दोबारा संपर्क कायम करने को मुश्किल बना दिया है यह सहजता से और अपने चार पैरों के सहारे नहीं उतरा होगा। उन्होंने कहा कि चंद्रमा की सतह से टकराने के चलते लगे झटकों के चलते लैंडर को नुकसान पहुंचा होगा।

लैंडर को पृथ्वी के प्राकृतिक उपग्रह (चंद्रमा) पर ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ के लिए और एक चंद्र दिवस (पृथ्वी के करीब 14 दिनों के बराबर) काम करने के लिए डिजाइन किया गया था। सिवन ने रविवार को कहा कि लैंडर विक्रम के चंद्रमा की सतह पर होने का पता चला है और लैंडर ने निश्चित ही ‘हार्ड लैंडिंग’ की है। सिवन ने स्वीकार कर लिया कि नियोजित सॉफ्ट लैंडिंग सफल नहीं रही।

चंद्रमा की सतह से महज 2.1 किमी की दूरी पर टूटा था संपर्क

गौरलतब है कि इसरो द्वारा चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम की सॉफ्ट लैंडिंग का अभियान शनिवार को अपनी तय योजना के मुताबिक पूरा नहीं हो पाया था और चंद्रमा की सतह से महज 2.1 किलोमीटर की दूरी पर उसका संपर्क जमीनी स्टेशन से टूट गया था।

चंद्रमा पर खोज के लिए देश के दूसरे मिशन का सबसे जटिल चरण माने जाने के दौरान लैंडर चंद्रमा की सतह पर ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ के बिलकुल करीब था, जब इससे संपर्क टूट गया। चंद्रयान-2 के लैंडर का वजन 1,471 किग्रा है।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

कैंसर जैसी बीमारियों का इलाज भी संभव, गौमूत्र पर हो रहा शोध

Sun Sep 8 , 2019
केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने कहा कि आयुष मंत्रालय गौमूत्र पर शोध कर रहा है। गौमूत्र में कैंसर सहित कई अन्य गंभीर बीमारियों को दूर करने की क्षमता होती है। विश्व फिजियोथेरेपिस्ट दिवस के मौके पर बोल रहे केंद्रीय मंत्री ने यह दावा भी किया कि पूर्व प्रधानमंत्री […]
cow