Delhi University: Northeast students being pulled out of the hostel, DCW pulled the Varsity.

दिल्ली विश्वविद्यालय (Delhi University) की पूर्वोत्तर महिला छात्रों ने दिल्ली महिला आयोग (DCW) को एक शिकायत भेजी है जिसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि कॉलेज प्रशासन उन पर छात्रावास खाली करने के लिए दबाव बना रहा है।

डीसीडब्ल्यू ने दिल्ली विश्वविद्यालय को पूर्वोत्तर की कुछ महिला छात्रों द्वारा दायर एक ताजा शिकायत पर नोटिस जारी किया है, जिन्हें कथित तौर पर छात्रावास खाली करने के लिए मजबूर किया गया है और उनसे नस्लीय भेदभाव किया गया।

दिल्ली विश्वविद्यालय की पूर्वोत्तर महिला छात्रों ने दिल्ली महिला आयोग (DCW) को एक शिकायत भेजी है जिसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि कॉलेज प्रशासन उन पर छात्रावास खाली करने के लिए दबाव बना रहा है।

ये भी पढ़ें: Corona virus: असम के मुख्यमंत्री सोनोवाल ने राज्य की अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए माँगा समर्थन

इस मामले पर तुरन्त कार्यवाही करते हुए, एक केंद्रीय मंत्री ने महिलाओं को सहायता का आश्वासन दिया था, लेकिन पुनः सोमवार को एक ताजा शिकायत दर्ज की गई। छात्रों ने अब इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग करते हुए, महिला पैनल के साथ मुद्दा उठाया है।

शिकायत में छात्रों ने आरोप लगाया है कि उन्हें हॉस्टल खाली करने के लिए कहा गया है। उन्होंने यह भी कहा है कि उन्होंने मेस में भोजन से संबंधित कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

छात्रों ने उनके खिलाफ नस्लवादी टिप्पणी करने की भी शिकायत की है। मामले की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार को नोटिस जारी किया है। आयोग ने विश्वविद्यालय को एक कार्यवाही रिपोर्ट देने और छात्रों को प्रदान की जाने वाली सुविधाओं पर भी कहा है।

ये भी पढ़ें: Railway services started: रेलवे ने यात्रियों के लिए जारी किये दिशानिर्देश, पुनः शुरू रेल सेवायें

दिल्ली महिला आयोग की प्रमुख स्वाति मालीवाल ने कहा, “दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले पूर्वोत्तर छात्रों ने शिकायत दी है कि उन पर छात्रावास खाली करने के लिए दबाव डाला जा रहा है। lockdown के कारण उनके पास छात्रावास में रहने के अलावा कोई और विकल्प नहीं है।”

“छात्रों ने भी आयोग को उनके खिलाफ की गई नस्लवादी टिप्पणियों के बारे में शिकायत की है। यह बहुत गंभीर मामला है और इसके मद्देनजर हमने विश्वविद्यालय को नोटिस जारी किया है और उनसे मामले में तुरंत कार्यवाही करने को कहा है। मालीवाल ने कहा कि इस तरह का कोई भी भेदभाव बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा