अयोध्या केस: 1949 में हुई गलती को हमेशा जारी नहीं रखा जा सकता | Bharat Gossips

अयोध्या केस: 1949 में हुई गलती को हमेशा जारी नहीं रखा जा सकता

राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद मामले में मुस्लिम पक्ष ने कहा कि 1949 को जो गलती हुई, उस गलती को लगातार जारी नहीं रखा जा सकता। साथ ही मुस्लिम पक्ष ने यह भी कहा कि क्या रामलला विराजमान कह सकते हैं कि उस जमीन पर मालिकाना हक उनका है?

सुनवाई के 21वें दिन मुस्लिम पक्षकारों की ओर से पेश वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ केसमक्ष कहा कि पीठ को महज दो बिन्दुओं पर विचार करना है। पहला, विवादित स्थल पर मालिकाना हक किसका है और दूसरा, क्या गलत परंपरा को जारी रखा जा सकता है?

धवन ने कहा कि 22 दिसंबर, 1949 की रात मस्जिद के गुंबद के नीचे मूर्ति रखी गई। ऐसा करना गलत था। जनवरी 1950 में मजिस्ट्रेट द्वारा इस गलत चीज को यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया जाता है तो क्या इस गलती को जारी रखा जा सकता है। उन्होंने सवाल किया कि क्या इस आधार पर कोई उस जगह पर अपना अधिकार का दावा कैसे कर सकता है। दूसरे पक्ष को यह साबित करना होगा कि 22 दिसंबर की रात से पहले क्या हुआ था। 

साथ ही धवन ने निर्मोही अखाड़े के वाद का विरोध करते हुए कहा कि सेवादार केअलावा अन्य चीजों पर उनका दावा नहीं बनता, क्योंकि वे मालिक नहीं हैं। वे सिर्फ सेवादार है और सेवादार और ट्रस्टी में फर्क होता है। बुधवार को अयोध्या मामले की सुनवाई महज डेढ़ घंटे चली। अगली सुनवाई वृहस्पतिवार को होगी। 

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

'गाय, ओम' सुनने पर कुछ लोगों को बिजली का झटका लगता है: पीएम मोदी

Wed Sep 11 , 2019
देश में गाय के नाम पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सरकार विपक्ष के निशाने पर रहती है। मथुरा में पशु आरोग्य मेले का शुभारंभ करने पहुंचे पीएम मोदी ने विरोधियों को आड़े हाथों लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश में गाय और ओम का नाम सुनने पर […]
pjl8diig pm अयोध्या केस: 1949 में हुई गलती को हमेशा जारी नहीं रखा जा सकता